दिल्ली में फिर सातों सीटों पर BJP का कब्जा, सबसे बड़ी जीत चंदोलिया की… जानें- क्या बना रिकॉर्ड

दिल्ली में फिर सातों सीटों पर BJP का कब्जा, सबसे बड़ी जीत चंदोलिया की… जानें- क्या बना रिकॉर्ड
Spread the love

दिल्ली में बीजेपी ने सभी सातों सीटों पर एक बार फिर जीत हासिल कर ली है। इससे पहले 2014 और 2019 के चुनाव में भी बीजेपी ने सभी सातों सीटें जीत ली थीं।

राजधानी दिल्ली में सबसे बड़ी जीत उत्तर-पश्चिमी सीट से बीजेपी के उम्मीदवार योगेंद्र चंदोलिया को मिली है। उन्होंने 2.90 लाख से ज्यादा वोटों के अंतर से चुनाव जीत लिया है। उनके बाद उत्तर-पूर्वी दिल्ली से मनोज तिवारी ने 1.38 लाख वोटों के अंतर से कन्हैया कुमार को हराकर चुनाव जीता है।

बीजेपी ने इस बार दिल्ली में एक नया रिकॉर्ड भी बनाया है। उसके तीनों पूर्व मेयर और तीनों मौजूदा प्रदेश महामंत्री योगेंद्र चंदोलिया, कमलजीत सहरावत और और हर्ष मल्होत्रा चुनाव जीतकर संसद पहुंच गए हैं।

दिल्ली में क्या रहा बीजेपी का प्रदर्शन?

योगेंद्र चंदोलियाः उत्तर पश्चिमी दिल्ली सीट से बीजेपी उम्मीदवार योगेंद्र चंदोलिया ने सबसे ज्यादा 2,90,849 वोट के अंतर से जीत हासिल की है। उन्हें कुल 8,66,483 वोट मिले हैं। जबकि उनके प्रतिद्वंदी उम्मीदवार कांग्रेस के उदित राज को 5,75,634 वोट मिले हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के हंसराज हंस ने ये सीट 5,53,897 वोट के अंतर से जीती थी और उन्हें कुल 8,48,663 वोट मिले थे। 2019 के चुनाव में आम आदमी पार्टी के गुग्गन सिंह 2,94,766 वोटों के साथ दूसरे और कांग्रेस के राजेश लिलोठिया 2,38,882 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थे।

मनोज तिवारी: भाजपा के मनोज तिवारी ने कांग्रेस के कन्हैया कुमार को 1,38,778 वोटों से हराया। मनोज तिवारी को कुल 8,24,451 वोट मिले, जबकि कन्हैया कुमार को कुल 6,85,673 वोट मिले। यह बात ध्याननीय है कि इस सीट पर कन्हैया कुमार के कारण सबसे ज्यादा चर्चा हुई थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में तिवारी ने कांग्रेस उम्मीदवार शीला दीक्षित को 3,66,102 वोटों के अंतर से हराया था। तब तिवारी को कुल 7,87,799 वोट मिले थे। आम आदमी पार्टी के दिलीप पांडे 2019 में 1,90,856 वोट प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहे थे।

कमलजीत सहरावत: पश्चिमी दिल्ली सीट पर भाजपा की कमलजीत सहरावत ने 1,99,013 वोटों के अंतर से जीत हासिल की। आम आदमी पार्टी के महाबल मिश्रा को कुल 6,43,645 वोट मिले, जबकि कमलजीत सहरावत को कुल 8,42,658 वोट मिले। 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी के परवेश वर्मा ने इस सीट पर सबसे ज्यादा मतों के अंतर से जीत हासिल की थी। उन्हें कुल 8,65,648 वोट मिले थे और उन्होंने तब कांग्रेस उम्मीदवार महाबल मिश्रा को 5,78,486 वोट से हराया था।

रामवीर सिंह बिधूड़ी: दक्षिणी दिल्ली सीट से भाजपा उम्मीदवार रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार सहीराम पहलवान को 1,24,333 वोटों से हराया है। रामवीर बिधूड़ी को कुल 6,92,832 वोट मिले हैं, जबकि सहीराम को कुल 5,68,499 वोटों से संतोष करना पड़ा।

प्रवीण खंडेलवाल: दिल्ली की चांदनी चौक सीट पर भाजपा के प्रवीण खंडेलवाल ने जीत हासिल की है। उन्होंने कांग्रेस के जय प्रकाश अग्रवाल को कुल 89,325 वोटों से हराया है। प्रवीण खंडेलवाल को कुल 5,16,496 और जेपी अग्रवाल को 4,27,171 वोट मिले हैं। चुनाव आयोग ने दिल्ली में सबसे पहले प्रवीण खंडेलवाल को ही विनिंग कैंडिडेट घोषित किया था।

हर्ष मल्होत्रा: भाजपा के हर्ष मल्होत्रा ने पूर्वी दिल्ली सीट पर 93,663 वोटों के अंतर से जीत हासिल की। उन्होंने आप के कुलदीप कुमार को हराया। हर्ष मल्होत्रा को कुल 6,64,819 वोट मिले, जबकि कुलदीप कुमार को कुल 5,71,156 वोट मिले। 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के क्रिकेटर गौतम गंभीर ने कांग्रेस के अरविंदर सिंह लवली को 3,91,222 वोटों के अंतर से हराया था। गंभीर को कुल 6,96,156 वोट मिले थे, जबकि लवली को 3,04,934 वोट मिले थे। आम आदमी पार्टी की आतिशी तब 2,19,328 वोट प्राप्त कर तीसरे स्थान पर रहीं थीं। इस बार, अरविंदर सिंह लवली ने कांग्रेस को छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए थे।

बांसुरी स्वराज: भाजपा के बांसुरी स्वराज ने नई दिल्ली सीट को सबसे सुरक्षित माना जाने वाले सीट पर सबसे कम अंतर से जीता। उन्होंने आप के सोमनाथ भारती को 78,370 वोटों के अंतर से हराया। बांसुरी को कुल 4,53,185 वोट मिले, जबकि भारती को कुल 3,74,815 वोट मिले। 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस के अजय माकन को 2.5 लाख वोटों के अंतर से हराया था। तब लेखी को कुल 5,04,206 और माकन को 2,47,702 वोट हासिल हुए थे। आम आदमी पार्टी के ब्रिजेश गोयल को कुल 1,50,342 वोट मिले थे और वह अपनी जमानत नहीं बचा सके थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *